मुम्बई । महान बल्लेबाज सुनील गावसकर भी भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की सादगी से खासे प्रभावित हैं। गावसकर के अनुसार धोनी चार्टज फ्लाइट में भी बिजनस क्लास में नहीं बैठते थे। इस दौरान  कप्तान होने के बावजूद धोनी टीवी क्रू के साथ इकॉनमी क्लास में ही सफर करते थे। भारतीय क्रिकेट टीम में शीर्ष खिलाड़ियों को ही घरेलू उड़ानों में बिजनस क्लास सीटें मिलती हैं पर धोनी इस विकल्प का इस्तेमाल नहीं करते थे। गावसकर के अनुसार टीम में अच्छा प्रदर्शन करने वाले अपने खिलाड़ियों को पुरस्कृत किया जाता रहा है। भारतीय क्रिकेट को जानने वाले ज्यादातर लोगों को पता है कि भारत में घरेलू उड़ानों के दौरान भी अंतरराष्ट्रीय मैचों के लिए दोनों टीमें एक विशेष चार्टेड फ्लाइट से एक शहर से दूसरे शहर जाती हैं।' इसी फ्लाइट में टीवी क्रू का तकनीकी स्टाफ भी जाता है जिसे अगले मैच के लिए केबल आदि सेट करने होते हैं। बिजनस क्लास में सीमित सीटें होती हैं, इसलिए इसमें कप्तान, कोच और टीम के मैनेजर बैठते हैं। इसके साथ ही पिछले मैच में अच्छा करने वाले भारतीय खिलाड़ियों को भी इनाम के तौर पर इसमें सीट मिलती है। वह पीछे इकॉनमी क्लास की जगह इसमें बैठ सकते हैं।