टोक्यो । ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड को 2023 महिला विश्व कप की संयुक्त मेजबानी मिलनी तय है। इससे पहले  जापान फुटबॉल संघ (जेएफए) ने अपनी मेजबानी की दावेदारी वापस ले ली। जापान के हटने से ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड की राह आसान हो गयी है। जेएफए ने टोक्यो में ऑनलाइन प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान दावेदारी से हटने की बात कही है। जेएफए के अध्यक्ष कोजो ताशिमा ने कहा, ‘हमने 2023 महिला विश्व कप की मेजबानी की अपनी दावेदारी वापस लेने का फैसला किया है हालांकि उन्होंने इसे एक निराशाजनक फैसला बताया पर कहा कि इसके अलावा विकल्प नहीं था।’ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड की संयुक्त दावेदारी को इस महीने की शुरुआत में फीफा से सर्वश्रेष्ठ आकलन अंक मिले थे। जापान की दावेदारी दूसरे, वहीं कोलंबिया की तीसरे स्थान पर रही थी। फुटबॉल की वैश्विक संचालन संस्था फीफा को गुरुवार को स्विट्जरलैंड में विजेता के नाम की घोषणा करनी है। जापान की बोली को 3.9 अंक दिए गए थे जबकि ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड की दावेदारी को संभावित पांच में से 4.1 अंक मिले थे। कोलंबिया को 2.8 अंक मिले थे। जापान ने 2011 में महिला वर्ल्ड कप खिताब जीता था जबकि 2015 में टीम उपविजेता रही थी। अमेरिका ने फ्रांस ने पिछला टूर्नमेंट जीतने के अलावा कुल चार बार विश्व खिताब जीता है। ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड की टीमें कभी टॉप-4 में जगह नहीं बना पाई हैं। तोक्यो में इस साल होने वाले ओलंपिक खेलों को भी अगले साल तक स्थगित किया गया है। जापान इसके अलावा 2030 में सापोरो में विंटर ओलिंपिक की मेजबानी की दावेदारी भी पेश कर रहा है।